0
Kaagaz Ke Mahal by Ravi Kumar : Book Review by Arun Pandit Kaagaz ke Mahal book cover
Kaagaz Ke Mahal by Ravi Kumar : Book Review by Arun Pandit 8Q23kGGNigpcY O0qVRTopQ8LlTJVhH7KbKaOANwlvGLxVx2aX9N56ADNdsbcHhxV4LE kgpZq5sHBL3io5B0RSKxMRyXHoCWYoOokL4kRMLOw29UdnxsUftGUQXdi7Ovm6LTmdhIizV0we06MX6 cNxLXDi5 7Aqk2Zxp24DnyjUqdDQ1uApRoQTWO2Excru2s1xTYBZx9Wk9sH8Pf59icfCQ1wHT tjVly KGlOx0 DP734Mps SeSguwP5B kY9q9S8AyUuqXrDw4sDWoI4EPDg9bXW2VnwzObfSIDiVICPShoGfc2ufFDAsQ6Hj361bRWtdZ5rWfwgm1IAZ BlCfSBij7dddqDUxPddMvH672uDRae2275inIQ xOSJU pSz18QbNw56eawp2bLcbb6LUF1B6AVKqAvYy9j8hCs6PQUNedmykr1QuZkOgGc4FfKE2YPsA83vlXVj gjjggrH5Slq6P V4F0E31iNlNb ThPGHsFuukOhbEX7VCwjcuwWFJoqu2nRVUnNGcuu79nYNLsUXzJ S tzO50LnEosTFAJxnYJYCtfGC DyaF5YhRnN7dggE R6Bb04jrtZkdB rJmh3i2SviCisd RsRKcJItbDibWvg3Nlvf2EVrDYtVVAYSl6nY yM9AFBR6IOB2uQ998uJjTeJ0VhTkJjVvgjWbadswwgf=w1440 h680 no

Kaagaz ke Mahal : I must confess that its after a very long time that I have bought a Hindi book . Poems and Shayaari as a genre had been ruled by the legends like Ghalib , Faiz , Gulzar ji etc . The genre was dominated by Urdu writers and almost negligible contribution from the new era . I am glad to see that Mr Ravi Kumar has given hope to this evergreen yet aging genre . The poems and Shayaaris shared have a unique sense of connectivity with your soul . Reading the book seems like reliving the sad and happy experiences of your life . I felt that a lot of my life incidents and emotions where put to words perfectly by Mr Ravi . It basically takes you down memory lanes in words which are easy to understand and does not require a dictionary to comprehend . The words touches your heart . Sometimes it makes you happy and sometimes it makes you drop a tear . Sometimes it teaches you lessons and sometimes it just shows you that life is wonderful despite the chaos . The book is free flowing in nature , you just keep reading it effortlessly like a long drive on a highway on a full moon night . This book is full of human stories and emotions that everyone can relate with . So if you want to relive memories in a peaceful poetic way then go grab a copy . Highly recommended .

Author Bio : Mr Ravi Kumar

Kaagaz Ke Mahal by Ravi Kumar : Book Review by Arun Pandit 1566649484 222384author photo

रवि कुमार पेशे से एक कम्यूनेकशन सपेशलिस्ट, रवि नें बतौर टीवी पत्रकार एक लम्बा अरसा देश के जाने माने न्यूज़ चैनल्स के साथ काम करते हुए बिताया है, जिसके बाद उन्होंने कौरपरेट जगत का रुख़ किया और देश विदेश की प्रमुख कम्पनियों में बतौर मार्केटिंग कम्यूनिकेशन एक्सपर्ट अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। कई जाने माने मंचों पर अपनी कविताओं को अपने ही अंदाज़ में सुनाने के लिए मशहूर, रवि देश के कुछ गिने चुने लेखकों में से हैं जो एक तरफ़ तो हिंदी और उर्दू में कविताएँ, शेर, नज़्म इत्यादि लिखते हैं, साथ ही अंग्रेज़ी भाषा में कल्पनाओं के परे गढ़ी कहानियाँ भी बख़ूबी लिखते हैं। ‘काग़ज़ के महल’ इनकी पहली किताब होने के साथ साथ तीन पुस्तकों की शृंखला की पहली किताब भी है जो आने वाले वक़्त में आपको पढ़ने को मिलेंगी । इनकी दूसरी किताब ‘ख़्यालों से आगे’ में तेज़ी से जुड़ती रचनाओं की रफ़्तार देखते हुए इनकी दूसरी पुस्तक भी पाठकों के लिए जल्द ही उपलब्ध होगी

Kaagaz Ke Mahal by Ravi Kumar : Book Review by Arun Pandit Kaagaz ke Mahal book cover

दिल और दिमाग़ की गहराईओं में रखे सैकड़ों जज़्बात अक्सर ज़ुबां के रास्ते मंज़िल ना पाने की वजह से किसी कोने में दबे रह जाते हैं । बस एक पन्नों की दुनिया है जहाँ बिना किसी सवाल जवाब के स्याही जज़्बातों को अपने साथ बेझिझक सही और ग़लत के पार ले जाती है । काग़ज़ के महल ऐसे  ही सैकड़ों जज़्बातों का निचोड़ है जो हालात और उम्मीद की कश्मकश में सुन्न हो जाते हैं ।

जज़्बातो की चाशनी में डूबी यह किताब इंसानी रिश्तों की जद्दोजहद से जुड़े कई अनकहे पहलुओं को ख़ूबसूरती से बयाँ करती है, जिससे आप ख़ुद को कहीं ना कहीं जुड़ा पाएँगे । दरसल इस किताब में लिखी बातें हर उस इंसान से ताल्लुक़ रखती हैं जो अकेले में कुछ याद करके या तो मुस्कुराता है, रोता है, अनमने मन से याद को मिटाने की नामुमकिन कोशिश करता है या फिर सिर्फ़ एक लम्बी साँस लेकर वापस असलियत की दुनिया में लौटने की कोशिश करता है ।

सभी उम्र के पाठकों के लिए लिखी ये कविताएँ, आजकल के युवा वर्ग को ध्यान में रखते हुए रोमन यानी अंग्रेज़ी में लिखी हुई हिंदी में भी प्रकाशित की गयी हैं जो इस किताब को और ख़ास बना देती हैं।

कुछ जानी पहचानी पंक्तियाँ जो इस किताब का हिस्सा हैं –

लिखे थे वो ख़त जिनको

आए फिर वो याद सभी

काग़ज़ के कुछ पुर्ज़ों से

जुड़े थे यूँ जज़्बात सभी

भीड़ बहुत है चारों ओर

तनहा मन घबराता है

हाल-ए-दिल बस लिखते हैं

अल्फ़ाज़ों में हैं राज़ सभी

Also Available On

Kaagaz Ke Mahal by Ravi Kumar : Book Review by Arun Pandit a.kindle
Kaagaz Ke Mahal by Ravi Kumar : Book Review by Arun Pandit kobo
Kaagaz Ke Mahal by Ravi Kumar : Book Review by Arun Pandit gplay
Kaagaz Ke Mahal by Ravi Kumar : Book Review by Arun Pandit ibookslogo


Like it? Share with your friends!

0

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
1
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
arunpandit

Founder DontGiveUp.com and Head of Sales (B2B) at LoadShare Networks | Featured author & Guest speaker at National and Internatational events | Member YLC (AIMA) & FICCI National Logistics Committee | Ex TruxApp , BlackBuck , PayU & CEAT | Alumni of IIFT , GZSCET , Sainik School Sujanpur Tihra and St Mary's School Delhi

0 Comments

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Choose A Format
Personality quiz
Series of questions that intends to reveal something about the personality
Trivia quiz
Series of questions with right and wrong answers that intends to check knowledge
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Countdown
The Classic Internet Countdowns
Open List
Submit your own item and vote up for the best submission
Ranked List
Upvote or downvote to decide the best list item
Meme
Upload your own images to make custom memes
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Audio
Soundcloud or Mixcloud Embeds
Image
Photo or GIF
Gif
GIF format
%d bloggers like this: